Saturday, 9 July 2016

आधा गाँव -राही मासूम रज़ा



Aadha Gnaw- Rahi Masum Raza
राही मासूम रज़ा का बहुचर्चित उपन्यास “आधा गांव” १९६६ में प्रकाशित हुआ जिससे राही का नाम उच्चकोटि के उपन्यासकारों में लिया जाने लगा। यह उपन्यास उत्तर प्रदेश के एक नगर गाजीपुर से लगभग ग्यारह मील दूर बसे गांव गंगोली के शिक्षा समाज की कहानी कहता है। राही नें स्वयं अपने इस उपन्यास का उद्देश्य स्पष्ट करते हुए कहा है कि “वह उपन्यास वास्तव में मेरा एक सफर था। मैं गाजीपुर की तलाश में निकला हूं लेकिन पहले मैं अपनी गंगोली में ठहरूंगा। अगर गंगोली की हकीकत पकड़ में आ गयी तो मैं गाजीपुर का एपिक लिखने का साहस करूंगा”।

डाऊनलोड करें- आधा गाँव

12 comments:

  1. Ajay Singh1 July 2016 at 18:26

    बन्धु
    पुस्तक उपलब्ध कराने के लिए आभार।जो पुस्तक नेट पर पहले से है उसे अपलोड करने में क्यों समय व श्रम नष्ट कर रहे हैं। आधा गांव ourhindi.comजैसी कई बेबसाइटों पर उपलब्ध है।

    ReplyDelete
  2. सभी दुर्लभ पुस्तकों को सुलभ बना दिया आपने जयदीप भाई बहुत आभारी हूँ

    ReplyDelete
  3. Jaideep Bhai apse namra nivedan hai ki devakinandan khatriji ki gupta godna upload kare apka ehsaan hoga hum hindi pathako par... ....

    ReplyDelete
  4. jaideep sir plz alice in wonder land hindi me upload kijiye plz

    ReplyDelete
  5. sir sirf aap hi ki vajah se me fifty shades par paya sab jagah net pe dhund liya par mili kahi nahi.aapka bahut bahut shukriya.

    ReplyDelete
  6. Bhai Rohtas math uplabdh karvane ki kripa kare.bahut dhundne par bhi kahi nahi mil rahi he ye pustak.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Prem ji,
      Mere paas Rohtas math hai aur use share kar sakata hun. ye 3 part me hai But Mujhe ye batayen ki SMP ki sunil series ya Bimal series ki kaun kaun si Book share kar sakate haiN?
      jnawaliv@yahoo.com

      Delete
  7. Bhai mere paas harry potter ke aage ke teen bhag Hindi me padhe hai aap bolo to site ka naam batau

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद यश जी
      मेरे पास सारे पार्ट हैं बस थोड़ा टाइम निकाल के अपलोड करूँगा
      आपके पास और कोई बुक है तो स्वागत है

      Delete
  8. बन्धु
    कृपया रोहताशमठ शेयर करें ।
    -अजय सिंह
    Pujari9580817001@gmail.com

    ReplyDelete
  9. Jaydeepji hame apke punah online sakriya hone ka besabri se intejar h kripaya smp aur vps k novels upload karein

    ReplyDelete
  10. Jai Deep bhai 2 mahine se lapata hain. Jin kisi sajjan ko mile Kripaya fauran unhe giraftaar karke unke site Hindi Pustak Khajana par Bhej den. dhanyavad .

    ReplyDelete